EPF account closed – अपने आप बंद हो सकता है आपका EPF अकाउंट, खाते का सारा पैसा फंस जाएगा, जानिए?

Written by Chirag Yadav

Published on:

EPF account closed – भविष्य निधि (Provident Fund) से जुड़ी अधिकतर सेवाएं ऑनलाइन हो गई हैं। इससे क्लेम करना बहुत आसान हो जाता है। लेकिन आज भी ऐसे कई मामले सामने आते हैं. जिसमें लोगों को ईपीएफ (Employee Provident Fund) निकालने में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। EPF यानी कर्मचारी भविष्य निधि को लेकर लोगों के मन में कई सवाल हैं।

जैसे कि वे अपना पैसा कब निकाल सकते हैं। निकासी के क्या फायदे और नुकसान हैं। ईपीएफ अकाउंट (EPF Account)  कैसे ट्रांसफर करें जैसे कई सवाल हैं। लेकिन आपको पता है? आपका ईपीएफ खाता अपने आप बंद भी हो सकता है। अगर ऐसा होता है तो आपके ईपीएफ खाते (EPF Account) में जमा पूरी रकम फंस सकती है। इसे निकालने के लिए आपको काफी परेशानी का सामना करना पड़ सकता है।

ईपीएफ खाता कब बंद होता है? – When is EPF account closed?

अगर आपकी पुरानी कंपनी बंद हो गई है और आपने अपना पैसा नई कंपनी के खाते में ट्रांसफर नहीं किया है या इस खाते में 36 महीने से कोई लेन-देन नहीं हुआ है। इसलिए 3 साल बाद यह खाता अपने आप बंद हो जाएगा और इसे ईपीएफ (EPF) के निष्क्रिय खातों में जोड़ दिया जाएगा। इतना ही नहीं इस खाते से पैसे निकालने में (EPF account) भी आपको काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है। आप बैंक की मदद से केवाईसी के जरिए पैसा निकाल सकते हैं। इस बीच, आपके इस निष्क्रिय खाते पर भी ब्याज लगता रहता है।

ईपीएफओ के क्या निर्देश हैं? – What are the instructions of EPFO?

ईपीएफओ (EPFO) ने कुछ दिन पहले एक सर्कुलर में कहा था कि निष्क्रिय खातों से जुड़े दावों का निपटान करते समय सावधानी बरतनी चाहिए। धोखाधड़ी (Fraud) के जोखिम को कम करने के लिए अत्यधिक सावधानी बरती जानी चाहिए और वास्तविक दावेदारों को दावा राशि का भुगतान किया जाना चाहिए।

एक निष्क्रिय खाता क्या है? – What is an inactive account?

भविष्य निधि खाते (Employee Provident Fund Account) जहां अंशदान 36 माह से अधिक समय से जमा नहीं किया गया है। ईपीएफओ इन्हें निष्क्रिय खातों की श्रेणी में रखता है। निष्क्रिय खातों पर भी ब्याज अर्जित किया जाता है।

किसे प्रमाणित किया जाएगा? – Who will be certified?

निष्क्रिय पीएफ खातों (Employee Provident Fund Account) से संबंधित दावे को निपटाने के लिए कर्मचारी के नियोक्ता को दावे को प्रमाणित करने की आवश्यकता होती है। साथ ही ऐसे कर्मचारी जिनकी कंपनी बंद हो गई है और क्लेम को प्रमाणित करने वाला कोई नहीं है। फिर बैंक केवाईसी दस्तावेजों (Bank KYC Document) के आधार पर ऐसे दावे को प्रमाणित करेगा।

किन दस्तावेजों की आवश्यकता होगी? – What documents will be required?

केवाईसी (KYC) दस्तावेजों में पैन कार्ड, वोटर आईडी कार्ड, पासपोर्ट, राशन कार्ड, ईएसआई आईडी कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस शामिल हैं। इसके अलावा, सरकार द्वारा जारी किसी अन्य पहचान पत्र (Identity Card) जैसे आधार कार्ड का भी इस उद्देश्य के लिए उपयोग किया जा सकता है। इसके बाद सहायक भविष्य निधि आयुक्त या अन्य अधिकारी राशि के अनुसार निकासी या खाता हस्तांतरण (Account Transfer) की मंजूरी दे सकते हैं।

किसकी मंजूरी से पैसा मिलेगा? – With whose approval will the money be received?

यदि राशि 50 हजार रुपये से अधिक है तो आहरण या स्थानांतरण सहायक भविष्य निधि आयुक्त के अनुमोदन के बाद किया जायेगा। यदि राशि 25 हजार रुपये से अधिक और 50 हजार रुपये से कम है, तो खाता अधिकारी फंड ट्रांसफर (Fund Transfer) या निकासी की मंजूरी दे सकता है। यदि राशि 25 हजार रुपये से कम है तो संबंधित सहायक इसे स्वीकृत कर सकता है।

Leave a Comment