उग्र हुआ चक्रवातीय तूफान, बंगाल खाड़ी क्षेत्र से उत्तर की और रुख, बंगाल में NDRF अलर्ट मोड पर

Written by Chirag Yadav

Published on:

बंगाल की खाड़ी से शुरू हुआ चक्रवात मोका अब भीषण तूफान में बदल चूका है और ये तेज रफ़्तार से आगे बढ़ रहा है IMD के मुताबिक ये भीषण चक्रवात में बदल चूका है 12 मई सुबह के साढ़े पांच बजे के लगभग ये चक्रवात एक तीव्र तूफान में बदल चूका है IMD ने अलर्ट किया है की ये चक्रवात भीषण होने के साथ उत्तर और उत्तर पूर्व की और बढ़ सकता है

लैंडफॉल कहा और कब होगा

14 मई दोपहर के समय ये बंगलदेश के कॉक्स बाजार और म्यांमार के बीच दक्षिणी पूर्वी बंगलदेश और उत्तर म्यांमार के तटों से होते हुए बांग्लादेश और मयंमार के सीमावर्ती क्षेत्रों में लैंडफॉल करेगा इस दौरान हवाओ की रफ़्तार 160 किमी प्रति घंटे से 175 किमी प्रति घंटे तक हो सकती है हालाँकि लैंडफॉल होने से पहले चक्रवातीय तूफान हल्का कमजोर हो सकता है लेकिन इसके बाद भी 140 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ़्तार से एक गंभीर चक्रवातीय तूफान के रूप में लैंडफॉल करने के संभावना है

भारी बारिश के आसार

मौसम विभाग की तरफ से मछुआरों, जहाजों, नावों और ट्रॉलरों को मध्य एवं पूर्वोत्तर बंगाल की खाड़ी क्षेत्र और अंडमान उत्तरी क्षेत्र में नहीं जाने की सलाह दी है

कई राज्यों में चक्रवात की वजह से तेज बारिश हो सकती है अंडमान क्षेत्र में चक्रवात के कारण बारिश होने की संभावना है लैंडफॉल के दौरान कमजोर हुए चक्रवात मिजोरम और त्रिपुरा में बारिश का कारण बन सकता है

ओडिसा और पश्चिमी बंगाल की तटरेखा तूफान से सुरक्षित दुरी पर होगी इससे मौसम में कुछ खास हानिकारक बदलाव देखने के लिए नहीं मिलेंगे

बंगाल राज्य में NDRF टीम अलर्ट मोड में

चक्रवात में किसी भी प्रकार की आपदाओं से सामने करने के लिए पश्चिमी बंगाल राज्य में पहले से ही NDRF की आठ टीम तैयार कर दी गई है NDRF के 200 कर्मचारी फ़िलहाल तैनात है और 100 जवान स्टैंडबाई पर है , NDRF की दूसरी बटालियन के कमाडेंट गुरमिंदर सिंह के मुताबिक (भविष्यवाणियों के अनुसार) चक्रवात मोचा 12 मई को एक गंभीर चक्रवातीय तूफान और 14 मई को बहुत ही गंभीर तूफान में बदल जायेगा और इसके लिए टीम तैयार है