Indian Premier League (IPL) 2023 – दर्शकों को चेतावनी… मैदान पर लहराए ऐसे पोस्टर तो होगी जेल

Written by Chirag Yadav

Published on:

Indian Premier League (IPL) 2023 – इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) 2023 सीजन अब प्रशंसकों के बीच काफी दिलचस्पी पैदा कर रहा है। कोरोना के बाद पहली बार देश में इतनी भीड़भाड़ वाले स्टेडियम में मैच खेले जा रहे हैं। इस बीच, दर्शकों को चेतावनी दी गई है। इस नीति के तहत प्रशंसकों को पिच पर राजनीतिक मुद्दों से जुड़े भड़काऊ पोस्टर ले जाने की अनुमति नहीं है।

दरअसल, ‘पेटीएम इनसाइडर’ फ्रेंचाइजी चेन्नई सुपर किंग्स, दिल्ली कैपिटल्स, गुजरात टाइटंस, लखनऊ सुपर जायंट्स, सनराइजर्स हैदराबाद, राजस्थान रॉयल्स और पंजाब किंग्स का टिकटिंग पार्टनर है। ऐसे में उन्होंने ‘प्रतिबंधित उत्पादों’ की एक सूची जारी की है।

यह भी कहा गया है कि दर्शकों को नागरिकता संशोधन अधिनियम (CAA) या राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्ट्री (NRC) से जुड़े किसी भी बैनर को स्टेडियम में लाने की अनुमति नहीं होगी। यह चेतावनी केवल चार शहरों में होने वाले मैचों पर लागू होती है: दिल्ली, मोहाली, हैदराबाद और अहमदाबाद। नियम का उल्लंघन करने पर कड़ी सजा हो सकती है।

पीटीआई के मुताबिक, यह सलाह फ्रेंचाइजी की ओर से दी गई, जो अपने अलग घरेलू मैचों के लिए टिकट की जिम्मेदारी संभाल रही हैं। हालांकि एथलेटिक इवेंट किसी भी महत्वपूर्ण राजनीतिक या नीतिगत चिंताओं को बढ़ावा देने की अनुमति नहीं देता है, यह आम तौर पर भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के साथ परामर्श करने के बाद किया जाता है।

इस बारे में क्या कहना है बीसीसीआई के अधिकारी का?

Indian Premier League (IPL) 2023 – इस बारे में चुनौती दिए जाने पर दिल्ली एवं जिला क्रिकेट संघ (DDCA) के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, ‘टिकट देना पूरी तरह फ्रेंचाइजी के अधिकार क्षेत्र में है। हम केवल बिचौलिए हैं जो उन्हें स्टेडियम देते हैं। टिकट सलाह या चेतावनियों में हमारा कोई कहना नहीं है।

आईपीएल (Indian Premier League (IPL) 20230 फ्रैंचाइजी के प्रवक्ता के मुताबिक प्रतिबंधित उत्पादों पर कोई भी परामर्श हमेशा बीसीसीआई से बात करने के बाद किया जाता है। बीसीसीआई के एक अधिकारी ने कहा, ‘कृपया पिछले साल कतर में हुए फुटबॉल वर्ल्ड कप के लिए फीफा (इंटरनेशनल फुटबॉल एसोसिएशन) के मानकों की समीक्षा करें।’ फीफा के नियमों के तहत राजनीतिक, धार्मिक, व्यक्तिगत या अन्य प्रकार के नारे प्रतिबंधित थे।

Related News

Leave a Comment