सरकार का बड़ा ऐलान, लोन डिफॉलटरों के लिए खुशखबरी, 11 लाख किसानो का होगा ऋण ब्याज माफ़

Written by Chirag Yadav

Published on:

Kisan Karj Mafi Yojana – बात साल 2018 की है जब कांग्रेस सरकार ने अपने घोषणा पत्र में दो लाख रुपये तक के कृषि ऋण माफ़ी योजना की घोषणा की थी और उस समय कमलनाथ की सरकार बनी थी और किसानो को पचास हजार रूपये तक के ऋण माफ़ भी हुए थे लेकिन जिन लोगो ने दो लाख रूपये तक का लोन लिया हुआ था वो किसान कर्ज माफ़ी के चक्कर में समिति और बैंको में डिफाल्टर हो गए है और भारी भरकम ब्याज की राशि उन पर चढ़ गयी है है जिसके कारण उनको खाद और बीज नहीं मिल पा रहा है और अब इलेक्शन आने वाले है तो कांग्रेस की तरफ से फिर से किसानो को ऋण माफ़ी का लालच दिया जा रहा है। और दूसरी और भाजपा सरकार भी किसानो को कर्ज माफ़ी की बात कह रही है

किसानो को नहीं मिल रहा बीज और खाद

जिन किसानो ने दो लाख से अधिक का कृषि ऋण लिया था उनके सर पर कर्ज माफ़ी योजना के चक्कर में भारी भरकम ब्याज दर चढ़ गयी है और इससे बैंको और सहकारी समितियों में उनके नाम डिफाल्टर में आ चुके है इसी वजह से उनको खाद और बीज नहीं मिल रहा है और उनको मार्किट से महंगे दामों पर खाद और बीज लेना पड़ रहा है अब सरकार की तरफ से किसानो को राहत देने के लिए खाद और बीज उपलब्ध करवाए जाने पर विचार किया जा रहा है। डिफाल्टर किसानो को भी खाद बीज की सुविधा दिए जाने की निति पर सरकार विचार कर रही है

किसानो को लोन की सुविधा

खेती में खर्चे के चलते किसानो को सरकार से लोन लेना ही पड़ता है। और इसके लिए सरकार की तरफ से जिला सहकारी समिति और अपैक्स बैंक के जरिये किसानो को तीन लाख रूपये तक का लोन दिया जाता है इसमें प्रति हेक्टयेर पचास हजार रूपये से एक लाख रूपये का कर्ज बिना किसी ब्याज दर पर दिया जाता है। इससे किसानो को फायदा मिलता है

किसानो का ब्याज माफ़ी को कैबिनेट की मंजूरी का इंतजार

मध्य प्रदेश सरकार की तरफ से किसानो की आर्थिक हालत को देखते हुए 11 लाख डिफाल्टर किसानो के ब्याज माफ़ी योजना के लिए 27 करोड़ रूपये का प्रावधान किया गया है। सरकार की तरफ से अपैक्स बैंक और सहकारी समिति मिल कर इस योजना के लिए प्लान तैयार कर रहे है। और इस योजना के तहत 11 लाख किसान आएंगे जिनके ऊपर ऋण का भारी भरकम ब्याज चढ़ा हुआ है। इस योजना अभी ये तय नहीं किया गया है की कितने ऋण पर ब्याज माफ़ी दी जाएगी लेकिन इसमें तीन लाख रूपये तक अधिकतम ऋण के ब्याज पर माफ़ी दी जाएगी। इस योजना के लिए कैबिनेट की मंजूरी मिलना अभी बाकि है जैसे ही इसकी मंजूरी मिल जाती है तो इस योजना के तहत 11 लाख किसानो को ऋण ब्याज माफ़ी का लाभ मिलेगा