आपके एक लीटर पेट्रोल खरीदने पर सरकार के पास कितने रु जाते है जानिए

Written by Chirag Yadav

Published on:

देश में फ़िलहाल कई दिनों से पेट्रोल डीज़ल के दाम स्थिर बने हुए है वही पर क्रूड आयल के दाम में लगातार उतार चढाव जारी है पिछले वर्ष रूस और यूक्रेन के बीच शुरू हुए युद्ध के कारण पेट्रोल डीज़ल के दाम में तेजी आई थी और इससे रेट भी बढ़े थे फ़िलहाल देश में पेट्रोल लगभग 100 रु प्रति लीटर के हिसाब से बिक रहा है ये औसत भाव है किसी राज्य में कम हो सकता है किसी में अधिक लेकिन सौ रु औसत भाव आप मान के चलते है तो इसमें से टैक्स के रूप में आधा हिस्सा जाता है

रोजाना अपडेट होते है तेल के दाम

तेल कंपनियों की तरफ से हर रोज सुबह के छह बजे पेट्रोल डीज़ल के दाम अपडेट किये जाते है इसमें देश की बड़ी कम्पनिया शामिल है जिसमे इंडियन आयल , भारत पेट्रोलियम है पेट्रोल डीज़ल पर टैक्स के रूप में भारी भरकम रकम वसूली जाती है है और ये सरकार की कमाई का जरिया है इसमें से कुछ प्रतिशत राज्य सरकार और कुछ प्रतिशत केंद्र सरकार को जाता है

आंकड़ों पर नजर डालते है

अगर सरकारी आंकड़ों के हिसाब से देखे तो साल 2022 और 2023 के 9 महीनो के दौरान पेट्रोलियम पदार्थ पर टैक्स के रूप में 545,002 करोड़ रु की कमाई हुई थी और वही पर अगर साल 2021 और 2022 की बात करे तो 774,425 करोड़ रु और साल 2020 और 2021 की कमाई की बात करे तो 672,719 करोड़ रु, साल 2019 और 2020 में 555,370 करोड़ रु 2018-19 में 575,632 करोड़ रुपये, 2017-18 में 543,026 करोड़ रु की कमाई पेट्रोलियम पदार्थो के जरिये सरकार ने की थी

एक लीटर पेट्रोल पर आप कितना टैक्स देते है

पुरे देश में पेट्रोल और डीजल पर टैक्स लागु है और सभी के लिए लागु है केंद्र सरकार और राज्य सरकार दोनों पेट्रोल डीज़ल पर कितना टैक्स लेती है उसको समझते है। उदाहरण के लिए आप दिल्ली में के लीटर पेट्रोल लेते है जो की आपको 96.72 रु प्रति लीटर के हिसाब से मिलता है और इसमें 35.61 रुपये टैक्स है लेकिन इसमें से सरकार की तरफ से जो टैक्स लगाया जाता है वो राज्य और केंद्र सरकार का टैक्स होता है जो की एक लीटर पेट्रोल के दाम 96.72 रु पर 15.71 रुपये राज्य सरकार और 19.90 रुपये केंद्र सरकार के पास चला जाता है इसके बाद आता है डीलर जिसके पास कमीशन जाता जाता है 3.76 रु प्रति लीटर के हिसाब से और इसके बाद इसमें जुड़ता है ट्रांसपोर्ट का खर्चा जो 0.20 पैसे जोड़ा जाता है

petrol_tax

आसान तरीके से समझे

दिल्ली में एक लीटर पेट्रोल आता है 57.15 रु में और इसमें ट्रांसपोर्ट का खर्चा होता है 0.20 पैसा इसके बाद इसमें 19.90 रुपये एक्साइज ड्यूटी जोड़ी जाती है फिर इसमें डीलर का कमीशन 3.76 रु और इसके बाद इसमें वैट चार्ज 15.71 रु जुड़ता है और इसमें जो वैट की राशि होती है वो दिल्ली गवर्नमेंट को जाती है इन सबको जोड़ने के बाद आम जनता को एक लीटर पेट्रोल 96.72 रु में मिलता है