2030 तक आएगी बहुत गरीबी, वर्ल्ड बैंक ने जारी की रिपोर्ट

Written by Chirag Yadav

Published on:

जलवायु परिवर्तन पर वर्ल्ड बैंक ने जारी रिपोर्ट में कहा है की आने वाले 2030 तक लाखो ब्राज़ील देश के लाखो लोग गरीबी रेखा से भी निचे जा सकते है। और उन्होंने ब्राज़ील से अपील भी की है की वो रीन्यूएबल एनर्जी पर अधिक ध्यान दे जारी की गई रिपोर्ट में कहा गया है की दक्षिण अमेरिका का ये देश आने वाले समय में प्राकृतिक आपदाओं से प्रभावित होने वाला है ब्राज़ील देश में रीन्यूएबल एनर्जी के क्षेत्र में काफी उन्नत है यहाँ पर 80 प्रतिशत से अधिक बिजली , ऊर्जा रीन्यूएबल एनर्जी से आती है

ब्राज़ील के लिए विश्व बैंक के कंट्री डायरेक्टर जोहान्स ज़ट के मुताबिक अगर ब्राज़ील को कम कार्बन क्षमता का पूरा फायदा लेना है तो इसके लिए ब्राज़ील को अब और 2050 के बीच हर साल अपनी वार्षिक GDP के 0.5% का विशुद्ध निवेश करने की ज़रूरत होगी . वर्ल्ड बैंक की रिपोर्ट के मुताबिक जलवायु संबंधी उतार-चढ़ाव इस दशक के अंत तक, 8 से 30 लाख लोगों को बेहद गरीबी की तरफ ले जा सकता है .

वर्ल्ड बैंक की पिछले नवंबर में जारी रिपोर्ट के मुताबिक जलवायु परिवर्तन के कारण लॉन्ग टर्म डेवलपमेंट को बड़ा नुकसान है हाल में IDB के द्वारा किये गए शोध के मुताबिक ब्राज़ील जल्द ही एक टिपिंग पॉइंट पर पहुंच सकता है और अमेज़न बेसिन के इकोसिस्टम को बनाये रखने के लिए पर्यापत बारिश नही होगी

जलवायु परिवर्तन जंगलो की कटाई चराहगाह के विस्तार से ब्राज़ील की ग्रोथ दर 18,400 करोड़ डॉलर का क्यूमुलेटिव इपैक्ट होने का अनुमान है जो की ब्राज़ील देश की जीडीपी दर के 9.7% के बराबर है पिछले कुछ सालो से ब्राज़ील में तेज बारिश की वजह से बढ़ जैसी घटना की बढ़ोतरी हो रही है जो की देश के कम आय वाले हिस्सों को प्रभावित करती है वर्ल्ड बैंक के मुताबिक इस व्यवधान का आर्थिक और सामाजिक रूप से बहुत गंभीर प्रभाव होगा ,, इससे हाइड्रो प्रोजेक्ट , कृषि , बाढ़ शमन , जल आपूर्ति पर काफी अधिक असर हो सकता है। ब्राज़ील देश में हर साल इन घटनाओ की वजह से 260 करोड़ डॉलर का नुकसान होता है